सोमवार, 19 जुलाई 2010

मुझको प्यार है तुमसे




ऐ ज़िन्दगी मुझको प्यार है तुमसे
पल पल बीतती ज़िन्दगी,
हर पल नित नूतन रूप दिखाती
खटे-मीठे अनुभव दे जाती
अपने - पराएं का बोध कराती।



रूकना ,चलना, गिरना
फिर उठ कर चलना सिखलाती
रात-दिन, फिर रात के बाद
दिन का आनंद दिलाती ।



जीवन पथ के टेढे़-मेढे,पथरीले,
कंटक भरी राहों से गुजर कर
मंजिल तक पहुंचना, सबक़ सिखलाती।



रहगुज़र में रहबर बन जाती है
बिछा देती फूलों को कदमों तले
फिर लगा लेती गले
ऐ ज़िन्दगी मुझको प्यार है तुमसे।



मौत से प्यार करना सिखलाती
तू कितनी ज़िन्दादिल है ज़िन्दगी
इश्क से खुदा को मिलाती है ज़िन्दगी
ऐ ज़िन्दगी, हां मुझको प्यार है तुमसे।

25 टिप्‍पणियां:

  1. जिन्दगी से प्यार हो तो जिन्दगी खुशगवार हो जाती है
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. मौत से प्यार करना सिखलाती
    तू कितनी ज़िन्दादिल है ज़िन्दगी
    इश्क से खुदा को मिलाती है ज़िन्दगी
    ऐ ज़िन्दगी, हां मुझको प्यार है तुमसे।
    सभी परिस्थितियों में सन्‍तुलन बनाये रखना प्रसन्‍नता की चाबी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़िंदगी के सरोकारो के संघर्ष को नए अर्थों में बयान करने की कोशिश

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ ही एक सशक्त सन्देश भी है इस रचना में।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीवन कितना भी गया गुज़रा क्यूँ न हो, मौत से बेहतर है ... ये मैं नहीं कह रहा हूँ ... पूरी दुनिया कहती है ...
    सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. हिंदी ब्लॉग लेखकों के लिए खुशखबरी -


    "हमारीवाणी.कॉम" का घूँघट उठ चूका है और इसके साथ ही अस्थाई feed cluster संकलक को बंद कर दिया गया है. हमारीवाणी.कॉम पर कुछ तकनीकी कार्य अभी भी चल रहे हैं, इसलिए अभी इसके पूरे फीचर्स उपलब्ध नहीं है, आशा है यह भी जल्द पूरे कर लिए जाएँगे.

    पिछले 10-12 दिनों से जिन लोगो की ID बनाई गई थी वह अपनी प्रोफाइल में लोगिन कर के संशोधन कर सकते हैं. कुछ प्रोफाइल के फोटो हमारीवाणी टीम ने अपलोड.......

    अधिक पढने के लिए चटका (click) लगाएं




    हमारीवाणी.कॉम

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर चित्र .. सुंदर आशा वादी रचना .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. saadhnaa bahn aapke bare men kyaa raay dun aap to khud roy he aapki zindgi jin alfaazon men lipti he qaabile taarif he khub behtrin likhne ke liyen bhaayi. akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया अदा करती हूं तथा आगे भी आपका साथ मिलता रहे,धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपने - पराएं का बोध कराती।
    सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बढ़िया...आपकी कविता जिंदगी से प्यार करना सिखाती है

    उत्तर देंहटाएं
  13. saadhana ji
    meri dil se badhayi
    itni sundar kavita aapne likhi hai ki kya kahe , zindagi ke saare rang aapki kavita me khil uthe hai.. badhayi ji

    उत्तर देंहटाएं
  14. मर्मस्पर्शी रचना बधाई स्वीकारें। सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहद खूबसूरत!
    मूंह की बात छीन ली हो जैसे!
    बधाई हो!

    उत्तर देंहटाएं
  16. विजय जी,लखनवी जी,आशीष जी एवं रचना दीक्षित जी आप सभी का बहुत ही धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं