रविवार, 13 दिसंबर 2009

दर्द

दर्द
जीवन ही दर्द,दर्द ही खुशबू
जीवन ही विकास,विकास ही मंजिल
हर तरफ ही कोलाहल, दर्द ही अपना
दर्द ही राह, दर्द ही पथिक
दर्द ही शाम, दर्द ही सबेरा
दर्द ही राहत, राहत ही सुकून
दर्द ही तड़प, दर्द ही मिलन
आनन्द ही दर्द, दर्द ही सत्य
सत्य ही सुन्दर, सुन्दर ही शिव।

10 टिप्‍पणियां:

  1. कविता इतनी मार्मिक है कि सीधे दिल तक उतर आती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप सबों का बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दर्द और जीवन के रिश्ते को बहुत दार्शनिक अंदाज़ से परखा है अपने ......... बहुत सुंदर .........

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये दर्द ही ही जिन्दगी हैं मुझे लगता है दर्द के बिना जिन्दगी का मज़ा ही क्या है । सुन्दर रचना शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  5. दर्द ही ही जिन्दगी हैं मुझे लगता है दर्द के बिना जिन्दगी का मज़ा ही क्या है । सुन्दर रचना शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. कम शब्दों में बहुत सुन्दर कविता।
    बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर कवितायें बार-बार पढने पर मजबूर कर देती हैं.
    आपकी कवितायें उन्ही सुन्दर कविताओं में हैं.

    उत्तर देंहटाएं